'पटौदी पैलेस' सैफ के पिता मंसूर अली खान पटौदी को विरासत में मिला था इसलिए इस पैलेस से सैफ अली खान के इमोशंस जुड़े हुए हैं।

'पटौदी पैलेस' हरियाणा के गुड़गांव से 26 किलोमीटर दूर अरावली की पहाड़ियों में बसा है। पटौदी रियासत का इतिहास करीब 200 साल पुराना है। 

पटौदी रियासत की स्थापना सन् 1804 में हुई थी। पटौदी पैलेस साल 1935 में पटौदी खानदान के अंतिम शासक इफ्तिखार अली खान ने बनवाया था। 

पटौदी रियासत के 9वें नवाब मंसूर अली उर्फ टाइगर की मौत के बाद साल 2011 में उनके बेटे सैफ अली खान यहां के 10वें नवाब बने थे। मंसूर अली उर्फ नवाब पटौदी की मृत्यु के बाद उन्हें महल परिसर में ही दफनाया गया था। 

सैफ अली खान का पटौदी पैलेस करीब 10 एकड़ में बना हुआ है, जिसमें करीब 150 कमरे हैं। ये महल बहुत ज्यादा सुंदर है और अब यहां पर फिल्मों की शूटिंग होती है। 

यशराज बैनर की सुपरहिट फिल्म वीर-जारा की शूटिंग यहीं पर हुई थी, आप पर्दे पर पाकिस्तावी जारा का जो घर देख रहे थे वो पाकिस्तान नहीं बल्कि सैफ का पटौदी पैलेस था। 

रणबीर कपूर की सुपरहिट फिल्म 'एनिमल' की शूटिंग भी यही हुई है, पर्दे पर आपको रणबीर कपूर का जो आलीशान घर आपको दिख रहा था वो दरअसल उनके दीदी-जीजा( करीना-सैफ) का पैलेस पटौदी था। 

इस पैलेस में मंगल पांडे, वीर-जारा, गांधीः माई फादर और मेरे ब्रदर की दुल्हन और तांडव की भी शूटिंग हो चुकी है। 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस महल की कीमत करीब 800 करोड़ रुपये है। 

आपको बता दें कि करीना-सैफ ने अपनी शादी की पार्टी भी इसी महल में ही दी थी।